Bhai Dooj Vrat Katha

Bhai Dooj Vrat Katha

Bhaidooj also is known as Bhai Phota, Bhai Tij, Chaiya Phota, Bahu Beej, Bhathru Dwithiya, Bhatri Ditya, and Yamadwitheye is celebrated two days after Diwali, its a prominent festival wherein sisters pray to God for the well-being of their brothers.

Bhai Dhooj comes from two words, “Bhai” which translates to “brother” and “Dooj” which translates to “the second day after the full moon” and hence the name of this festival. This festival is celebrated as the sister applies a tika or vermillion and rice paste on her brother’s forehead as she prays for her long life and well-being. On the other hand, the brothers promise to protect his sister from any trouble/evil and choose to pamper their darling sisters with some gift.

Bhai Dooj Vrat Katha in English

The story goes that once there was a family living in a village that had only a sister and a brother. The sister was very elder to her brother, thus when she got married, the brother was at a very tender age. The boy did not remember anything about his sister’s marriage. After the marriage, the sister never returned to her mother’s home. As the brother grew up, the image of her sister started fading with each passing year. He terribly missed his sister, especially on the Bhai Dooj day, as he used to see his friends with teeka on their forehead and plates full of sweets.

On one particular Bhai Dooj, when the boy had turned up into a handsome young boy, he inquired his mother about the reason as to why his sister never visited her original home after her marriage. The mother replied that she does not come because there is a big forest between this village and the one in which she lives and there is a big river flowing in between. One has to cross the river by boat and then there are wild animals which fill people with so much terror, that many people do not travel through the forest.

In spite of knowing the immense difficulty he will have to face, the young brother decided to visit his sister on the next Bhai Dooj day. The mother reminded him again of the dangers, but he did not listen, and so it was decided that he would go and visit her. When the time came she told him to tell his sister that she should now come over and choose a suitable bride for him.

The boy set off and on his way, he faced the rising level of the river, which made it impossible for him to cross the road. There was also the danger of snakes. The boy requested the river not to drown him and told the snakes that they can bite him on his return journey after he meets his only sister. The snake agreed, and the boy proceeded. Now, he came to a mountain, which started through big stones on him, and he again pleaded with it to let him go. The mountain also agreed. When the boy was near his sister’s village, a big tiger appeared and decided to eat him up. He also pleaded to the tiger and promised him that the tiger can feed on him on his return journey.

The poor boy knew now that his days were numbered, still, he eagerly went along to meet his only sister. He entered the house and saw that she was doing the Bhai Dooj puja. The sister on seeing him after such a long time welcomed her brother with a smile and embraced him. She at once brought lovely fruits and sweetmeats to eat. She set about preparing kheer, puri, kachori, and lots of other tasty items. When her husband came after work, both of them provided a very enjoyable and memorable time to the young lad, so that he was full of joy.

Days passed, and it was time for the brother to take leave of his sister and brother-in-law. Before returning back, the brother narrated the whole incident to his sister and told her that his days were numbered and that he is soon going to die. The sister was shocked, but she decided to accompany him for the return journey. She secretly packed some meat for the tiger, some milk for the snake, flowers of silver and gold for the mountain, and some roli and rice for the river.

Soon they were on their way and, of course, the tiger came first to eat up the brother. The sister gave him the meat and he went his way. Then came the mountain, which wanted to fall on her brother. She quickly performed puja with the gold and silver flowers and the mountain was very pleased with the offerings and stopped falling. Then it was the turn of the snake, and it was given the milk and went away satisfied. They now reached the river and as was expected, it started to rise, but the sister subdued it by doing puja with roli and rice, and the river went down.

Both, brother and sister were very happy to escape the dangers of the forest and were anxious to reach home. The sister was now tired and thirsty. Soon she saw some gypsies working far away. She wanted to ask them for water, so the brother sat down under a tree-happy to be alive-and she went to the gypsies and got some water. Their gypsies predicted that the danger was not over and her brother will die very soon. She asked them to tell her some way by which this calamity could be averted. One old woman came to her rescue and suggested that until her brother gets married, she should go on cursing him, right from now on and continue to curse him all through the wedding and also insists on getting all rituals done to her first, only then this boy can be saved.

As soon as she reached near her brother, she started to curse him and to abuse him. The poor fellow was taken by surprise, but she continued calling him bad names. This thing continued even when they reached home. The mother, along with the villagers were very surprised at the nasty behavior of the sister, but no said anything as she was married and had come to her mother’s place after a long time.

Soon, the brother’s marriage was fixed to a beautiful girl. Still, the sister went on cursing on any pretext. Everyone wanted the wedding to be over as soon as possible and the sister to be sent back to her village. On the wedding day, she insisted that all rituals be performed on her before her brother. The sister insisted that they tie the sehra on her forehead first. She found a small snake in the sehra instead of a string. She pulled out the snake. Next, the sister insisted that the barat (marriage procession) should go from the back door and not from the front door, and no decorations are made. When the barat was to start, somehow the sister had fallen asleep. Ignoring her words, the barat started from a beautiful front porch. But, no longer had everyone gather, the whole porch fell down and narrowly missed the groom.

Now the time for the pheras (going round the fire) arrived and the sister had again gone to sleep. As soon as the first round of the pheras was done, the boy fell down in a dead faint, because of the evil spirits who had come to take him away. The sister woke up on hearing the noise and came cursing into the courtyard. Hearing the abuses and seeing her blazing eyes, the evil spirits fled. It was now time for the boy and the girl to give kheer to each other. They let the sister have the first morsel from which she took out a hedgehog’s spiked needle and quickly put it in her tiny bag as well.

The wedding was finally over and everyone including the mother and brother was keen to see the sister leave. Before leaving for her husband’s place, the sister narrated the prediction of the gypsies and gave the reason for her bad behavior. Everyone had tears in their eyes and they hugged her feet, and all present said with one voice: ‘Let everyone have a sister like this, who is willing to be talked ill of, and will go about looking wild and angry even during a wedding, although it was to be the only wedding in the family – all this just to save her brother and family from disaster.

Bhai Dooj Vrat Katha in Hindi

एक बुढ़िया थी| उसके सात बेटे और एक बेटी थी| बेटी की शादी हो चुकी थी| जब भी उसके बेटे की शादी होती, फेरों के समय एक नाग आता और उसके बेटे को डस लेता था| बेटा वही ख़तम हो जाता और बहू विधवा| इस तरह उसके छह बेटे मर गये | सातवे की शादी होनी बाकी थी| इस तरह अपने बेटों के मर जाने के दुख से बुढ़िया रो रो के अंधी हो गयी थी| भाई दूज आने को हुई तो भाई ने कहा की मैं बहिन से तिलक कराने जाऊँगा| माँ ने कहा ठीक है|

उधर जब बहिन को पता चला की उसका भाई आ रहा है तो वह खुशी से पागल होकर पड़ोसन के गयी और पूछने लगी की जब बहुत प्यारा भाई घर आए तो क्या बनाना चलिए? पड़ोसन उसकी खुशी को देख कर जलभुन गयी और कह दिया कि,” दूध से रसोई लेप, घी में चावल पका| ” बहिन ने एसा ही किया| उधर भाई जब बहिन के घर जा रहा था तो उसे रास्ते में साँप मिला| साँप उसे डसने को हुआ|

भाई बोला- तुम मुझे क्यू डस रहे हो? साँप बोला- मैं तुम्हारा काल हूँ| और मुझे तुमको डसना है| भाई बोला- मेरी बहिन मेरा इंतजार कर रही है| मैं जब तिलक करा के वापस लौटूँगा, तब तुम मुझे डस लेना| साँप ने कहा- भला आज तक कोई अपनी मौत के लिए लौट के आया है, जो तुम आऔगे| भाई ने कहा- अगर तुझे यकीन नही है तो तू मेरे झोले में बैठ जा| जब मैं अपनी बहिन के तिलक कर लू तब तू मुझे डस लेना| साँप ने एसा ही किया|

भाई बहिन के घर पहुँच गया| दोनो बड़े खुश हुए|भाई बोला- बहिन, जल्दी से खाना दे, बड़ी भूख लगी है| बहिन क्या करे| न तो दूध की रसोई सूखे, न ही घी में चावल पके| भाई ने पूछा- बहिन इतनी देर क्यूँ लग रही है? तू क्या पका रही है? तब बहिन ने बताया कि एसे एसे किया है| भाई बोला- पगली! कहीं घी में भी चावल पके हैं , या दूध से कोई रसोई लीपे है| गोबर से रसोई लीप, दूध में चावल पका| बहिन ने एसा ही किया| खाना खा के भाई को बहुत ज़ोर नींद आने लगी| इतने में बहिन के बच्चे आ गये| बोले-मामा मामा हमारे लिए क्या लाए हो? भाई बोला- में तो कुछ नही लाया| बच्चो ने वह झोला ले लिया जिसमें साँप था| जेसे ही उसे खोला, उसमे से हीरे का हार निकला| बहिन ने कहा- भैया तूने बताया नही की तू मेरे लिए इतना सुंदर हार लाए हो| भाई बोला- बहना तुझे पसंद है तो तू लेले, मुझे हार का क्या करना| अगले दिन भाई बोला- अब मुझे जाना है, मेरे लिए खाना रख दे| बहिन ने उसके लिए लड्डू बना के एक डब्बे मे रख के दे दिए|

भाई कुछ दूर जाकर, थक कर एक पेड़ के नीचे सो गया| उधर बहिन के जब बच्चों को जब भूख लगी तो माँ से कहा की खाना दे दो| माँ ने कहा- खाना अभी बनने में देर है| तो बच्चे बोले कि मामा को जो रखा है वही दे दो| तो वह बोली की लड्डू बनाने के लिए बाजरा पीसा था, वही बचा पड़ा है चक्की में, जाकर खा लो| बच्चों ने देखा कि चक्की में तो साँप की हड्डियाँ पड़ी है| यही बात माँ को आकर बताई तो वह बावड़ी सी हो कर भाई के पीछे भागी| रास्ते भर लोगों से पूछती की किसी ने मेरा गैल बाटोई देखा, किसी ने मेरा बावड़ा सा भाई देखा| तब एक ने बताया की कोई लेटा तो है पेड़ के नीचे, देख ले वही तो नहीं| भागी भागी पेड़ के नीचे पहुची| अपने भाई को नींद से उठाया| भैया भैया कहीं तूने मेरे लड्डू तो नही खाए!! भाई बोला- ये ले तेरे लड्डू, नहीं खाए मैने| ले दे के लड्डू ही तो दिए थे, उसके भी पीछे पीछे आ गयी| बहिन बोली- नहीं भाई, तू झूठ बोल रहा है, ज़रूर तूने खाया है| अब तो मैं तेरे साथ चलूंगी| भाई बोला- तू न मान रही है तो चल फिर| चलते चलते बहिन को प्यास लगती है, वह भाई को कहती है की मुझे पानी पीना है| भाई बोला- अब मैं यहाँ तेरे लिए पानी कहाँ से लाउ| देख ! दूर कहीं चील उड़ रहीं हैं,चली जा वहाँ शायद तुझे पानी मिल जाए| तब बहिन वहाँ गयी, और पानी पी कर जब लौट रही थी तो रास्ते में देखती है कि एक जगह ज़मीन में 6 शिलाए गढ़ी हैं, और एक बिना गढ़े रखी हुई थी| उसने एक बुढ़िया से पूछा कि ये शिलाएँ कैसी हैं| उस बुढ़िया ने बताया कि- एक बुढ़िया है| उसके सात बेटे थे| 6 बेटे तो शादी के मंडप में ही मर चुके हैं, तो उनके नाम की ये शिलाएँ ज़मीन में गढ़ी हैं, अभी सातवे की शादी होनी बाकी है| जब उसकी शादी होगी तो वह भी मंडप में ही मर जाएगा, तब यह सातवी सिला भी ज़मीन में गड़ जाएगी| यह सुनकर बहिन समझ गयी ये सिलाएँ किसी और की नही बल्कि उसके भाइयों के नाम की हैं| उसने उस बुढ़िया से अपने सातवे भाई को बचाने का उपाय पूछा| बुढ़िया ने उसे बतला दिया कि वह अपने सातवे भाई को केसे बचा सकती है| सब जान कर वह वहाँ से अपने बॉल खुले कर के पागलों की तरह अपने भाई को गालियाँ देती हुई चली|

भाई के पास आकर बोलने लगी- तू तो जलेगा, कुटेगा, मरेगा|भाई उसके एसे व्यवहार को देखकर चोंक गया पर उसे कुछ समझ नही आया| इसी तरह दोनो भाई बहिन माँ के घर पहुँच गये| थोड़े समय के बाद भाई के लिए सगाई आने लगी| उसकी शादी तय हो गयी| जब भाई को सहरा पहनाने लगे तो वह बोली- इसको क्यू सहरा बँधेगा, सहारा तो मैं पहनूँगी| ये तो जलेगा, मरेगा| सब लोगों ने परेशान होकर सहरा बहिन को दे दिया| बहिन ने देखा उसमें कलंगी की जगह साँप का बच्चा था| बहिन ने उसे निकाल के फैंक दिया| अब जब भाई घोड़ी चढ़ने लगा तो बहिन फिर बोली- ये घोड़ी पर क्यू चढ़ेगा, घोड़ी पर तो मैं बैठूँगी, ये तो जलेगा, मरेगा, इसकी लाश को चील कौवे खाएँगे| सब लोग बहुत परेशान | सब ने उसे घोड़ी पर भी चढ़ने दिया| अब जब बारात चलने को हुई तब बहिन बोली- ये क्यू दरवाजे से निकलेगा, ये तो पीछे के रास्ते से जाएगा, दरवाजे से तो मैं निकलूंगी| जब वह दरवाजे के नीचे से जा रही थी तो दरवाजा अचानक गिरने लगा| बहिन ने एक ईंट उठा कर अपनी चुनरी में रख ली, दरवाजा वही की वही रुक गया| सब लोगों को बड़ा अचंभा हुआ| रास्ते में एक जगह बारात रुकी तो भाई को पीपल के पेड़ के नीचे खड़ा कर दिया| बहिन कहने लगी- ये क्यू छाव में खड़ा होगा, ये तो धूप में खड़ा होगा| छाँव में तो मैं खड़ी होगी|जैसे ही वह पेड़ के नीचे खड़ी हुई, पेड़ गिरने लगा| बहिन ने एक पत्ता तोड़ कर अपनी चुनरी में रख लिया, पेड़ वही की वही रुक गया| अब तो सबको विश्वास हो गया की ये बावली कोई जादू टोना सिख कर आई है, जो बार बार अपने भाई की रक्षा कर रही है| एसे करते करते फेरों का समय आ गया| जब दुल्हन आई तो उसने दुल्हन के कान में कहा- अब तक तो मैने तेरे पति को बचा लिया, अब तू ही अपने पति को और साथ ही अपने मरे हुए जेठों को बचा सकती है| फेरों के समय एक नाग आया, वो जैसे ही दूल्हे को डसने को हुआ , दुल्हन ने उसे एक लोटे में भर के उपर से प्लेट से बंद कर दिया| थोड़ी देर बाद नागिन लहर लहर करती आई| दुल्हन से बोली- तू मेरा पति छोड़|दुल्हन बोली- पहले तू मेरा पति छोड़|नागिन ने कहा- ठीक है मैने तेरा पति छोड़ा|दुल्हन- एसे नहीं, पहले तीन बार बोल|नागिन ने 3 बार बोला, फिर बोली की अब मेरे पति को छोड़|दुल्हन बोली- एक मेरे पति से क्या होगा, हसने बोलने क लिए जेठ भी तो होना चाहिए, एक जेठ भी छोड़| नागिन ने जेठ के भी प्राण दे दिए|फिर दुल्हन ने कहा- एक जेठ से लड़ाई हो गयी तो एक और जेठ छोड़| वो विदेश चला गया तो तीसरा जेठ भी छोड़| इस तरह एक एक करके दुल्हन ने अपने 6 जेठ जीवित करा लिए| उधर रो रो के बुढ़िया का बुरा हाल था| कि अब तो मेरा सातवा बेटा भी बाकी बेटों की तरह मर जाएगा| गाँव वालों ने उसे बताया कि उसके सात बेटा और बहुए आ रही है| तो बुढ़िया बोली- अगर यह बात सच हो तो मेरी आँखो की रोशनी वापस आ जाए और मेरे सीने से दूध की धार बहने लगे| एसा ही हुआ| अपने सारे बहू बेटों को देख कर वह बहुत खुश हुई, बोली- यह सब तो मेरी बावली का किया है| कहाँ है मेरी बेटी?

सब बहिन को ढूँढने लगे| देखा तो वह भूसे की कोठरी में सो रही थी| जब उसे पता चला कि उसका भाई सही सलामत है तो वह अपने घर को चली| उसके पीछे पीछे सारी लक्ष्मी भी जाने लगी| बुढ़िया ने कहा- बेटी, पीछे मूड के देख! तू सारी लक्ष्मी ले जाएगी तो तेरे भाई भाभी क्या खाएँगे| तब बहिन ने पीछे मूड के देखा और कहा- जो माँ ने अपने हाथों से दिया वह मेरे साथ चल, बाद बाकी का भाई भाभी के पास रह| इस तरह एक बहिन ने अपने भाई की रक्षा की|

Bhai Dooj 2020: Wishes, Quotes, Messages, Facebook post & Whatsapp status

Avatar for Simmi Kamboj

Simmi Kamboj

Simmi Kamboj is the Founder and Administrator of Ritiriwaz, your one-stop guide to Indian Culture and Tradition. She had a passion for writing about India's lifestyle, culture, tradition, travel, and is trying to cover all Indian Cultural aspects of Daily Life.

About RitiRiwaz

RitiRiwaz.com is your one stop guide to the Indian Culture and Traditions. We provide you with the information on various aspects of the great Indian culture and its diversity.

We keep on adding new and unique content which make users visit back over and over again.

Contact and Info

Email: info@ritiriwaz.com
Copyright © 2014-2020 RitiRiwaz.com. All Rights Reserved.