Shaniwar Vrat | Saturday Fasting

0
245
Shani dev

Shanivar (Saturday) is dedicated to Shani Devta(Saturn), who is one of the Navagrahas or nine planets. Saturn sits in a mirror chariot, yoked with eight black horses.

The Saturday fast keeps away all the hurdles and misfortunes. It is considered to be highly benefical and most significant of all the weekly vrats. This vrat can win the blessing of Shani Dev and remove the ill effects of a weak Shani in the Kundali.

The fast should be started from saturday of Shukla paksh of any month or first saturday of Shravan month and is observed regularly for 11 or 51 saturdays.

The Fast starts from the sunrise and devotee takes bath and wear black or blue clothes. They worship Saturn idol made of iron, one can visit near by Shani temple and offer Black flowers, black sesame seeds (til,). Horse bean (Black urada) and black clothes are used for worship. Black articles and Mustard oil are given in donation. Devotees also feed ants with whole wheat flour.

The recitation of Shani Chalisa is also beneficial and one should read Shani vrat katha. After the day long fast food is taken two hours after the sunset.

Also Read : Each Day of a Week is dedicated to Hindu God

Shaniwar Vrat Katha in English

Once a debate occurred between all the Gods in the heaven about the greatest of them all. But, they were unable to decide and the debate turned into a war like situation. All of them then went to Indra and asked him to adjudicate the matter. Indra was in great dilemma and after thinking for some times he said about his inability to judge the matter and suggested them to go to the court of king Vikramaditya of Ujjayani who is known to be a great justice.

On his suggestion, all the gods went on earth and visited Ujjayani. When Vikramaditya came to know about the visit of Gods, he himself welcomed them. After coming to his court, the Gods asked him to solve the matter. Vikramaditya too got in great dilemma as he knew that all the gods were powerful in their own ways and telling anyone small or big may bring him his ire.

After thinking for some times, the king got an idea. He ordered for nine chairs made of different metals: Gold, Silver, Bismuth, Copper, Lead, Galena,  Zinc, Mica and iron respectively and got it kept in a row one after the other. He then requested the gods to sit on their respective seats. When the Gods sat, he said that you all have yourself judged the greatest of you all. The God sitting on the first seat is the most powerful. Shani Dev was sitting on the last seat. On listening the judgement, he felt humiliated and got angry.

He said “you do not realise my power. I will destroy you. Sun stays in a zodiac for one month; Moon for two and quarter days; Mars for 1 and ½ months; Mercury and Venus for 1 month; Jupiter for 13 Months but I can stay in a sign for 7 and ½ years.  Even big Gods had suffered my ire.

Ram had to stay in the forest due to Sadesati and even and Ravana died and his family got destroyed in the war due to Sadesati. Now its your turn to face my ire. All the Gods then went away.

After few days Shani Deva visited Ujjayani in disguise of a horse trader. He brought many attractive horses along with him. When Vikramaditya came to know about this, he sent his stable-lad (Ashwapaal) to buy some horses but was perplexed on knowing the prices as they were too expensive. He went back and informed the king about the same. Then the king himself went to the trader and selected a beautiful and healthy horse for himself.

When the king sat on the horse to take a ride, it took of with the speed of a light and took the king to a far away forest and dropped him there and disappeared. The King loitered in the forest in hunger and thirst to locate and reach his kingdom but of no avail. After some time he met a cow-herd and asked him for some water. After soothing his thirst, the king gave him his ring. The king then asked him the way and reached to a city nearby.

The king rested on a shop of a businessman and told him that he is from Ujjayani. While the king was on his shop, the businessman earned high profits and the businessman took him to be a lucky visitor for him and took Vikramaditya to his home for meal. The king saw a necklace hanging on the peg and to his surprise he saw the peg swallowing the necklace. When the businessman saw that the necklace is not there, he took the king to be a thief. He ordered his servants to tie Vikramaditya with a rope and take him to the king of that city.

Though Vikramaditya explained him the real story, the king did not believed him and ordered to slit his hands and legs. His hands and legs were cut and then he was left on the city streets. Few days later a Teli(Oil-man) felt pity and took him to his house. The Teli taught him to ride bullocks and handed him this work.

Time passed and the period of Sadesati was over and spring season came. One night the king was singing Megh Malhar Raga. At that time, the princess of the town, Mohini, was passing from nearby and was attracted by the song. She sent her attendant to call the singer. When the attendant returned, she told the story of the king to the princess.

The princess was attracted towards the singer and even after knowing about his paralysis, the princess decided to marry him. Initially her parents resisted the decision but the princess protested and said that she will marry that person only or else she will remain unmarried. Finally the king agreed to marry the Princess to Vikramaditya.

After marriage, Vikramaditya and the princess started living in the house of the Teli. One night, Shani Dev came in his dreams and said  “you ranked me lowest among the Gods but now you have seen my power”. Then Vikramaditya apologised to him. Shani Dev accepted his prayers and disappeared. In the morning, Vikramaditya and his wife was surprised to see his body back to its previous shape. The king then thanked Shani Dev and told the princess about his real identity and about the Sadesati of Shani Dev.

The father of the princess became very happy on knowing about thee king Vikramaditya and the businessman who blamed of stealing his necklace came running to him. He fell down on his legs and apologised from Vikramaditya. The businessman invited Vikramaditya to his house for dinner. Suddenly to every bodies surprise, the necklace reappeared. Even the businessman then married his daughter to king Vikramaditya. and then sent them to his kingdom along with many gold jewelleries and other gifts.

When Vikramaditya reached Ujjayani along with the princess Mohini and the daughter of the businessman, they were received with full warmth and the peoples burnt candles and celebrated Diwali in this happiness. Next day the king made an announcement that Shani Dev is most powerful of all the Gods and all the men and women should observe his fast and listen his Katha. This announcement made Shani Dev very happy and from that day onwards the wishes of all the people observing this fast started getting fulfilled with his compassion.

Shaniwar Vrat Katha in Hindi

एक समय में स्वर्गलोक में सबसे बड़ा कौन के प्रश्न पर नौ ग्रहों में वाद-विवाद हो गया। निर्णय के लिए सभी देवता देवराज इन्द्र के पास पहुंचे और बोले- हे देवराज, आपको निर्णय करना होगा कि हममें से सबसे बड़ा कौन है? देवताओं का प्रश्न सुन इन्द्र उलझन में पड़ गए, फिर उन्होंने सभी को पृथ्वीलोक में राजा विक्रमादित्य के पास चलने का सुझाव दिया।

सभी ग्रह भू-लोक राजा विक्रमादित्य के दरबार में पहुंचे। जब ग्रहों ने अपना प्रश्न राजा विक्रमादित्य से पूछा तो वह भी कुछ देर के लिए परेशान हो उठे क्योंकि सभी ग्रह अपनी-अपनी शक्तियों के कारण महान थे। किसी को भी छोटा या बड़ा कह देने से उनके क्रोध के प्रकोप से भयंकर हानि पहुंच सकती थी।

अचानक राजा विक्रमादित्य को एक उपाय सूझा और उन्होंने विभिन्न धातुओं जैसे सोना, चांदी, कांसा, तांबा, सीसा, रांगा, जस्ता, अभ्रक व लोहे के नौ आसन बनवाएं। सबसे आगे सोना और सबसे पीछे लोहे का आसन रखा गया। उन्होंने सभी देवताओं को अपने-अपने आसन पर बैठने को कहा। उन्होंने कहा- जो जिसका आसन हो ग्रहण करें, जिसका आसन पहले होगा वह सबसे बड़ा तथा जिसका बाद में होगा वह सबसे छोटा होगा।

चूंकि लोहे का आसन सबसे पीछे था इसलिए शनिदेव समझ गए कि राजा ने मुझे सबसे छोटा बना दिया है। इस निर्णय से शनि देव रुष्ट होकर बोले- हे राजन, तुमने मुझे सबसे पीछे बैठाकर मेरा अपमान किया है। तुम मेरी शक्तियों से परिचित नहीं हो।सूर्य एक राशि पर एक महीने, चन्द्रमा दो महीने दो दिन, मंगल डेढ़ महीने, बुध और शुक्र एक महीने, बृहस्पति तेरह महीने रहते हैं, लेकिन मैं किसी भी राशि पर ढ़ाई वर्ष से लेकर साढ़े सात वर्ष तक रहता हूं। बड़े-बड़े देवताओं को मैंने अपने प्रकोप से पीड़ित किया है अब तू भी मेरे प्रकोप से सावधान रहना।

इस पर राजा विक्रमादित्य बोले- जो कुछ भाग्य में होगा देखा जाएगा।

इसके बाद अन्य ग्रहों के देवता तो प्रसन्नता के साथ चले गए, परन्तु शनिदेव बड़े क्रोध के साथ वहां से विदा हुए। कुछ समय बाद जब राजा विक्रमादित्य पर साढ़े साती की दशा आई तो शनिदेव ने घोड़े के व्यापारी का रूप धारण किया और बहुत से घोड़ों के साथ विक्रमादित्य की नगर पहुंचे।

राजा विक्रमादित्य उन घोड़ों को देखकर एक अच्छे-से घोड़े को अपनी सवारी के लिए चुनकर उस पर चढ़े। राजा जैसे ही उस घोड़े पर सवार हुए वह बिजली की गति से दौड़ पड़ा। तेजी से दौड़ता हुआ घोड़ा राजा को दूर एक जंगल में ले गया और फिर वहां राजा को गिराकर गायब हो गया।

राजा अपने नगर लौटने के लिए जंगल में भटकने लगा पर उसे कोई रास्ता नहीं मिला। राजा को भूख प्यास लग आई। बहुत घूमने पर उन्हें एक चरवाहा मिला। राजा ने उससे पानी मांगा। पानी पीकर राजा ने उस चरवाहे को अपनी अंगूठी दे दी और उससे रास्ता पूछकर जंगल से निकलकर पास के नगर में चल दिए।

नगर पहुंच कर राजा एक सेठ की दुकान पर बैठ गए। राजा के कुछ देर दुकान पर बैठने से सेठ की बहुत बिक्री हुई। सेठ ने राजा को भाग्यवान समझा और उसे अपने घर भोजन पर ले गया। सेठ के घर में सोने का एक हार खूंटी पर लटका हुआ था। राजा को उस कमरे में छोड़कर सेठ कुछ देर के लिए बाहर चला गया। तभी एक आश्चर्यजनक घटना घटी।

राजा के देखते-देखते खूंटी सोने के उस हार को निगल गई। सेठ ने जब हार गायब देखा तो उसने चोरी का संदेह राजा पर किया और अपने नौकरों से कहा कि इस परदेशी को रस्सियों से बांधकर नगर के राजा के पास ले चलो। राजा ने विक्रमादित्य से हार के बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि खूंटी ने हार को निगल लिया। इस पर राजा क्रोधित हुए और उन्होंने चोरी करने के अपराध में विक्रमादित्य के हाथ-पांव काटने का आदेश दे दिया। सैनिकों ने राजा विक्रमादित्य के हाथ-पांव काट कर उन्हें सड़क पर छोड़ दिया।

कुछ दिन बाद एक तेली उन्हें उठाकर अपने घर ले गया और उसे कोल्हू पर बैठा दिया। राजा आवाज देकर बैलों को हांकता रहता। इस तरह तेली का बैल चलता रहा और राजा को भोजन मिलता रहा। शनि के प्रकोप की साढ़े साती पूरी होने पर वर्षा ऋतु प्रारंभ हुई। एक रात विक्रमादित्य मेघ मल्हार गा रहा था, तभी नगर की राजकुमारी मनभावनी रथ पर सवार उस घर के पास से गुजरी। उसने मल्हार सुना तो उसे अच्छा लगा और दासी को भेजकर गाने वाले को बुला लाने को कहा।

दासी लौटकर राजकुमारी को अपंग राजा के बारे में सब कुछ बता दिया। राजकुमारी उसके मेघ मल्हार से बहुत मोहित हुई और सब कुछ जानते हुए भी उसने अपंग राजा से विवाह करने का निश्चय किया।

राजकुमारी ने अपने माता-पिता से जब यह बात कही तो वह हैरान रह गए। उन्होंने उसे बहुत समझाया पर राजकुमारी ने अपनी जिद नहीं छोड़ी और प्राण त्याग देने का निश्चय कर लिया। आखिरकार राजा-रानी को विवश होकर अपंग विक्रमादित्य से राजकुमारी का विवाह करना पड़ा। विवाह के बाद राजा विक्रमादित्य और राजकुमारी तेली के घर में रहने लगे।

उसी रात स्वप्न में शनिदेव ने राजा से कहा- राजा तुमने मेरा प्रकोप देख लिया। मैंने तुम्हें अपने अपमान का दंड दिया है। राजा ने शनिदेव से क्षमा करने को कहा और प्रार्थना की- हे शनिदेव, आपने जितना दुःख मुझे दिया है, अन्य किसी को न देना।

शनिदेव ने कहा- राजन, मैं तुम्हारी प्रार्थना स्वीकार करता हूं। जो कोई स्त्री-पुरुष मेरी पूजा करेगा, कथा सुनेगा, जो नित्य ही मेरा ध्यान करेगा, चींटियों को आटा खिलाएगा वह सभी प्रकार के कष्टों से मुक्त होता रहेगा तथा उसके सब मनोरथ पूर्ण होंगे। यह कहकर शनिदेव अंतर्ध्यान हो गए।

प्रातःकाल राजा विक्रमादित्य की नींद खुली तो अपने हाथ-पांव देखकर राजा को बहुत खुशी हुई। उन्होंने मन ही मन शनिदेव को प्रणाम किया। राजकुमारी भी राजा के हाथ-पांव सलामत देखकर आश्चर्य में डूब गई। तब राजा विक्रमादित्य ने अपना परिचय देते हुए शनिदेव के प्रकोप की सारी कहानी सुनाई।

इधर सेठ को जब इस बात का पता चला तो दौड़ता हुआ आया और राजा विक्रमादित्य के चरणों में गिरकर क्षमा मांगने लगा। राजा विक्रमादित्य ने उसे क्षमा कर दिया क्योंकि वह जानते थे कि यह सब तो शनिदेव के प्रकोप के कारण हुआ था। सेठ राजा विक्रमादित्य को पुन: को अपने घर ले गया और उसे भोजन कराया। भोजन करते समय वहां एक आश्चर्य घटना घटी। सबके देखते-देखते उस खूंटी ने हार उगल दिया। सेठ ने अपनी बेटी का विवाह भी राजा के साथ कर दिया और बहुत से स्वर्ण आभूषण, धन आदि देकर राजा को विदा किया।

राजा विक्रमादित्य राजकुमारी मनभावनी और सेठ की बेटी के साथ अपने नगर वापस पहुंचे तो नगरवासियों ने हर्ष के साथ उनका स्वागत किया। अगले दिन राजा विक्रमादित्य ने पूरे राज्य में घोषणा कराई कि शनिदेव सब ग्रहों में सर्वश्रेष्ठ हैं। प्रत्येक स्त्री-पुरुष शनिवार को उनका व्रत करें और व्रतकथा अवश्य सुनें। राजा विक्रमादित्य की घोषणा से शनिदेव बहुत प्रसन्न हुए। शनिवार का व्रत करने और व्रत कथा सुनने से शनिदेव की अनुकंपा बनी रहती है और जातक के सभी दुख दूर होते हैं।

LEAVE A REPLY