Karva Chauth Vrat Katha in English and Hindi

Karva Chauth Vrat Katha in English and Hindi

Karwa Chauth is a ritual of fasting, followed by married Hindu women for the well-being of their husbands. “Karva Chauth“, reflects, richest scientific understanding of ancient Indians with an immense belief which let women fast all day long for the longevity of their life partners on the fourth day after a full moon (Purnima) in the month of kartika. Karwa Chauth comes 9 days before Diwali and immediately after Dussehra in the month of October-November.

Karva Chauth Vrat Katha in English

Once upon a time, there was a beautiful queen named Veervati who was the only sister among seven loving and caring brothers. After her marriage, she observed the fast of first Karwa Chauth following her brother’s wives and mother. Her brothers asked to have dinner with her at night, however, she denied to eat anything before moonrise.

Her brothers loved her very much and were not able to see their sister standing the rigors of fasting and desperately waiting for the moon to rise. The seven brothers were very disturbed watching the distress of their sister and decided to end her fast by deceiving her.

Then the brothers created a mirror-like image with the help of fire through Pipal tree leaves and asked her sister to break the fast. Veervati asked her brother’s wives to break the fast as well. But they said to her that your brothers are deceiving you, the moon had not risen yet.

But Veervati avoided their words. The sister, taken it as moonrise, broke the fast and ate food. The moment the queen ate her dinner, she received the news that her husband was dead. She immediately rushed to her husband and on her way she met Lord Shiva and Goddess Parvati. She performed the Karwa Chauth rituals under strict rituals with complete devotion and brought her husband back to life.

Ganeshji Katha

There was a blind old woman who had a boy and a daughter-in-law. She was very poor. She used to worship blind old Nityaprati Ganeshji. Ganeshji used to come face to face and used to say that you should ask for whatever you want. The old lady used to say that I do not know how to ask so how can I ask for more? Then Ganeshji said, ask your daughter-in-law and ask for it. When the old man asked his son and daughter-in-law, Benta asked that he ask for money and Bahu said that grandson should ask. Then the old lady thought that the son-in-law was saying things of his own meaning, so that old lady asked the neighbors, then the neighbor said that old lady is my little life, should you ask for money and grandson, you only ask for your eyes so that your balance May life be spent happily.

The old lady, listening to the son and the neighbors, thought about going to the house so that the son would be the daughter-in-law, and well of all, he should also ask for it and ask for what he meant. When Shri Ganeshji came on the second day and said, what is the demand for the old lady, our word is what you will ask and you will be able to sleep. Hearing the words of Ganesha, the old lady said – O Ganeshraj! If you are happy with me, then give me nine crores of Maya, give me grandson, give birth to a healthy body, give eternal happiness, light the eyes and give happiness to all the family and finally give salvation. Hearing about the old lady, Ganesha said, old mother, you have cheated me. Well, whatever you have asked, you will get all. Saying this, Ganesha disappeared.

Suggested Read: Tips for Karwa Chauth Fast


Karwa Chauth Katha

Karva Chauth Vrat Katha in Hindi

एक साहूकार के सात लड़के और एक लड़की थी। एक बार कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि को सेठानी सहित उसकी सातों बहुएं और उसकी बेटी ने भी करवा चौथ का व्रत रखा। रात्रि के समय जब साहूकार के सभी लड़के भोजन करने बैठे तो उन्होंने अपनी बहन से भी भोजन कर लेने को कहा। इस पर बहन ने कहा- भाई, अभी चांद नहीं निकला है। चांद के निकलने पर उसे अर्घ्य देकर ही मैं आज भोजन करूंगी।

साहूकार के बेटे अपनी बहन से बहुत प्रेम करते थे, उन्हें अपनी बहन का भूख से व्याकुल चेहरा देख बेहद दुख हुआ। साहूकार के बेटे नगर के बाहर चले गए और वहां एक पेड़ पर चढ़ कर अग्नि जला दी। घर वापस आकर उन्होंने अपनी बहन से कहा- देखो बहन, चांद निकल आया है। अब तुम उन्हें अर्घ्य देकर भोजन ग्रहण करो। साहूकार की बेटी ने अपनी भाभियों से कहा- देखो, चांद निकल आया है, तुम लोग भी अर्घ्य देकर भोजन कर लो।

ननद की बात सुनकर भाभियों ने कहा- बहन अभी चांद नहीं निकला है, तुम्हारे भाई धोखे से अग्नि जलाकर उसके प्रकाश को चांद के रूप में तुम्हें दिखा रहे हैं।साहूकार की बेटी अपनी भाभियों की बात को अनसुनी करते हुए भाइयों द्वारा दिखाए गए चांद को अर्घ्य देकर भोजन कर लिया। इस प्रकार करवा चौथ का व्रत भंग करने के कारण विघ्नहर्ता भगवान श्री गणेश साहूकार की लड़की पर अप्रसन्न हो गए। गणेश जी की अप्रसन्नता के कारण उस लड़की का पति बीमार पड़ गया और घर में बचा हुआ सारा धन उसकी बीमारी में लग गया। साहूकार की बेटी को जब अपने किए हुए दोषों का पता लगा तो उसे बहुत पश्चाताप हुआ। उसने गणेश जी से क्षमा प्रार्थना की और फिर से विधि-विधान पूर्वक चतुर्थी का व्रत शुरू कर दिया। उसने उपस्थित सभी लोगों का श्रद्धानुसार आदर किया और तदुपरांत उनसे आशीर्वाद ग्रहण किया।

इस प्रकार उस लड़की के श्रद्धा-भक्ति को देखकर एकदंत भगवान गणेश जी उसपर प्रसन्न हो गए और उसके पति को जीवनदान प्रदान किया। उसे सभी प्रकार के रोगों से मुक्त करके धन, संपत्ति और वैभव से युक्त कर दिया।कहते हैं इस प्रकार यदि कोई मनुष्य छल-कपट, अहंकार, लोभ, लालच को त्याग कर श्रद्धा और भक्तिभाव पूर्वक चतुर्थी का व्रत को पूर्ण करता है, तो वह जीवन में सभी प्रकार के दुखों और क्लेशों से मुक्त होता है और सुखमय जीवन व्यतीत करता है।

गणेश जी की कहानी

एक अन्धी बुढिया थी जिसका एक लड़का और लड़के की बहु थी| वो बहुत गरीब था| वह अन्धी बुढिया नित्यप्रति गणेश जी की पूजा किया करती थी| गणेश जी साक्षात् सन्मुख आकर कहते थे कि बुढिया भाई तू जो चाहे सो मांग ले| बुढिया कहती है, मुझे मांगना नहीं आता तो कैसे और क्या मांगू| तब गणेश जी बोले कि अपने बहु बेटे से पूछकर मांग ले| तब बुढिया ने अपने पुत्र और वधु से पूछा तो बेटा बोला कि धन मांग ले और बहु ने कहाँ की पोता मांग लें| तब बुढिया ने सोचा कि बेटा यह तो अपने-अपने मतलब की बातें कर रहे है| अतः इस बुढिया ने पड़ोसियों से पूछा तो, पड़ोसियों ने कहा कि बुधिया तेरी थोड़ी सी जिंदगी है| क्यूँ मांगे धन और पोता, तू तो केवल अपने नेत्र मांग ले जिससे तेरी शेष जिंदगी सुख से व्यतीत हो जाए|

उस बुढिया ने बेटे और बहु तथा पडौसियों की बातें सुनकर घर में जाकर सोचा, जिसमे बेटा बहु और मेरा सबका ही भला हो वह भी मांग लूँ और अपने मतलब की चीज़ भी मांग लूँ| जब दुसरे दिन श्री गणेश जी आये और बोले, बोल बुढिया क्या मांगती है| हमारा वचन है जो तू मांगेगी सो ही पायेगी| गणेश जी के वचन सुनकर बुढिया बोली, हे गणराज! यदि आप मुझ पर प्रसन्न हैं तो मुझे नौ करोड़ की माया दें, निरोगी काया दें, अमर सुहाग दें, आँखों में प्रकाश दें, नाती पोते दें, और समस्त परिवार को सुख दें, और अंत में मोक्ष दें| बुढिया की बात सुनकर गणेश जी बोले बुढिया माँ तूने तो मुझे ठग लिया| खैर जो कुछ तूने मांग लिया वह सभी तुझे मिलेगा| यूँ कहकर गणेश जी अंतर्ध्यान हो गये| हे गणेश जी! जैसे बुढिया माँ को मांगे अनुसार आपने सब कुछ दिया वैसे ही सबको देना| और हमको भी देने की कृपा करना|

Happy Karwa Chauth 2020: Wishes, Quotes, Messages, Facebook post & Whatsapp status

Avatar for Simmi Kamboj

Simmi Kamboj

Simmi Kamboj is the Founder and Administrator of Ritiriwaz, your one-stop guide to Indian Culture and Tradition. She had a passion for writing about India's lifestyle, culture, tradition, travel, and is trying to cover all Indian Cultural aspects of Daily Life.

About RitiRiwaz

RitiRiwaz.com is your one stop guide to the Indian Culture and Traditions. We provide you with the information on various aspects of the great Indian culture and its diversity.

We keep on adding new and unique content which make users visit back over and over again.

Contact and Info

Email: info@ritiriwaz.com
Copyright © 2014-2020 RitiRiwaz.com. All Rights Reserved.